CAA पर PM मोदी की दो टूक- दबावों के बावजूद अपने निर्णय पर कायम हूं, आगे भी रहूंगा

देश बड़ी ख़बर

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को वाराणसी के दौरे पर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और आर्टिकल 370 का भी जिक्र किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को कहा कि दुनिया भर के तमाम दबावों के बावजूद उनकी सरकार संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के फैसलों पर कायम है और आगे भी रहेगी॰ आपको बता दें कि तमाम विरोध प्रदर्शनों के बावजूद गृहमंत्री अमित शाह भी बार-बार कह चुके हैं कि सरकार सीएए के मुद्दे पर पीछे नहीं हटेगी।

सीएए का जिक्र करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘महाकाल के आशीर्वाद से हम वे फैसले लेने में सक्षम हुए, जो लंबे समय से रुके हुए थे। आर्टिकल 370 हो या सीएए हो, हमने तमाम दबावों के बाद भी ऐसे फैसले लिए। मैं आपको भरोसा दिलाता हूं कि महाकाल के आशीर्वाद से लिए गए इन फैसलों पर आगे भी कायम रहेंगे।’ बताते चलें कि सीएए और एनआरसी के विरोध में दिल्ली के शाहीन बाग की तरह ही देश के कई हिस्सों में प्रदर्शन चल रहे हैं।

महाकाल एक्सप्रेस को नरेंद्र मोदी ने दिखाई हरी झंडी

दोबारा प्रधानमंत्री बनने के बाद दूसरी बार वाराणसी पहुंचे नरेंद्र मोदी शैव समुदाय से जुड़े जंगमवाड़ी मठ पहुंचे। इसके बाद उन्होंने चंदौली के पड़ाव में पंडित दीन दयाल उपाध्याय की 63 फीट ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया। पीएम मोदी ने वाराणसी में लगभग 1200 करोड़ रुपये की योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। उन्होंने काशी से महाकालेश्वर और ओंकारेश्वर को जोड़ने वाली काशी-महाकाल एक्सप्रेस को भी झंडी दिखाई।

25 हजार करोड़ की योजनाओं पर काम जारी

पीएम नरेंद्र मोदी ने आगे कहा, ‘शिक्षा, स्वास्थ्य, पर्यटन, संस्कृति से जुड़े इन कार्यों के लिए मैं वाराणसी और पूर्वांचल के लोगों को बधाई देता हूं। पिछले कुछ सालों में वाराणसी में लगभग 25 हजार करोड़ की योजनाएं या तो पूरी हो चुकी हैं, या काम जारी है। यह सब महादेव की इच्छा है, बाबा भोले का ही आशीर्वाद है। बाबा ने हमें इसकी जिम्मेदारी दी है। चौकाघाटा-लहरतारा फ्लाइओवर बन जान से जाम की समस्या खत्म होगी। 16 सड़कें बनाई गईं, उनका भी लोकार्पण हुआ है। इनसे यात्रियों को बहुत लाभ होगा। कनेक्टिविटी के ये काम आपके आराम के साथ-साथ रोजगार को भी जन्म देंगी। पर्यटन को भी मिलेगा बढ़ावा।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *